ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
*अमीरों और गरीबों के बीच खाई को अधिक गहरी करेगा 20 लाख करोड़ का पैकेज- दिग्विजय सिंह*
May 21, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • सम्पादकीय

*अमीरों और गरीबों के बीच खाई को अधिक गहरी करेगा 20 लाख करोड़ का पैकेज- दिग्विजय सिंह* भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ के पैकेज को देश की गरीब जनता के साथ बड़ा धोखा बताया है। श्री सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत के नाम से जो पैकेज घोषित किया है उससे कोई प्रवासी व अप्रवासी मजदूर, किसान, नाई, दर्जी, धोबी, मोची, दूध वाला, सब्जी वाला, चायवाला और पान वाला आत्मनिर्भर नही बन पायेगा। कोरोना महामारी में सरकार द्वारा उद्योगों को प्रोत्साहन देते हुये गरीब और अमीरों के बीच की खाई को गहरा करने का काम किया जा रहा है क्योंकि इस पैकेज में से गरीब मजदूरों के हिस्से में सिर्फ 10 प्रतिशत राशि ही पंहुच पा रही है। इस पैकेज की 90 प्रतिशत राशि बड़ी कंपनियों और उद्योगपतियों के पास इंफ्रास्ट्रक्चर और अनुदान के नाम पर पहॅुंचेगी।  कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि यदि गरीबों और प्रवासी मजदूरों की चिन्ता करते हुये केन्द्र सरकार द्वारा उनकी सुगम वापसी के लिये वाहन और भोजन की व्यवस्था की जाती तो उन्हे बिना तकलीफ के घर पहुँचाया जा सकता था जिससे न तो उनके भूख से मरने की नौबत नही आती और न ही हजारों किलोमीटर पैदल चलने से उत्पन्न त्रासदी झेलनी पड़ती। सैंकड़ों बेबस मजदूर दुर्घटनाओं में भी नही मारे जाते। बिजली कंपनियों को 90 हजार करोड़ की तात्कालिक राहत देने के नाम पर इस राशि में से निजी कंपनियों को लगभग 50 हजार करोड़ का प्रावधान किया गया है। यह विडंबना है कि जो राशि 40 करोड़ लोगों तक पंहुचायी जानी थी वह राशि चन्द कंपनियों से जुड़े बड़े उद्योगपतियों तक पंहुचाई जा रही है। उन्होने कहा कि छोटे व्यवसाय करने वाले लोगों के लिये सरकार ने ऋण की व्यवस्था की है जबकि बड़ी कंपनियों को अनुदान दिया जा रहा है। यह बात समझ से परे है कि जिस चाय की दुकान से मोदी जी ने प्रधानमंत्री तक का सफर तय किया वे उन्ही चाय की दुकान जैसे छोटे-छोटे व्यवसायों को कैसे भूल गये?   श्री दिग्विजय सिंह ने कहा केन्द्र सरकार को आपदा की घड़ी में मनरेगा मजदूरों को 100 दिन की जगह 200 दिन के रोजगार की गारंटी देनी चाहिये। जिस महात्मा गाॅधी नरेगा को प्रधानमंत्री संसद में ‘‘गड्ढे खोदने की योजना’’ बता रहे थे वही आज संकट काल में 10 करोड़ किसान-मजदूर परिवारों का सहारा बन रही है। कांग्रेस नेता ने शहरों से गाॅंव पंहुचे सभी परिवारों को नये जाॅब कार्ड दिये जाने की मांग की। उन्होने कहा कि जिन गाॅवों में मजदूरों को रोजगार नही मिल पा रहा है वहाॅ मनरेगा के अंतर्गत कानूनी रूप से बेरोजगारी भत्ता दिया जाना चाहिये।  पूर्व मुख्यमंत्री ने 10 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को डायरेक्ट फंड ट्रांसफर के जरिये 7500 रूपये उनके बैंक खाते में प्रतिमाह दिये जाने की मांग की। उन्होने प्रश्न किया कि महामारी की त्रासदी से आर्थिक रूप से बदहाल हो चुके गरीबों की जेब में यदि सरकार कम से कम 6 माह तक यह राशि नही देगी तो देश के गरीब परिवार आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में कैसे सहयोग दे पायेंगे? कई विकसित देशों ने लोगों को राहत देने के लिये इस प्रकार सीधे आम जनता के खाते में पर्याप्त राशि जमा करवाई है। श्री सिंह ने प्रसिद्ध अर्थशास्त्री और वाजपेयी सरकार में कृषि मंत्री रहे श्री सोमपाल शास्त्री के उस बयान से भी सहमति प्रकट की है जिसमें उन्होने कहा कि 20 लाख करोड़ का पैकेज गरीबों के  के लिये ‘‘ऊंट के मुंह में जीरे’’ के समान है। इस पैकेज से 10 प्रतिषत राशि भी सीधे गरीबों तक नही पंहुच रही है। श्री सिंह ने प्रधानमंत्री से मांग की है कि 20 लाख करोड़ के पैकेज का पुनर्निर्धारण किया जाये और चालीस करोड़ करीब मजदूर परिवारों को न्याय योजना के अनुरूप सीधी आर्थिक सहायता तत्काल उनके खातों में दी जाये।