ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
*RSS, BJP भारत की अर्थव्यवस्था क्यों बर्बाद कर रहे हैं!
June 5, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • देश / विदेश

(श्रीमती कल्पना बर्मन-आसाम)

जब आप RSS के सर संचालक, गोलवलकर की पुस्तक *We Or Our Nationhood Defined* को पढोगे तो समझ जाओगे कि अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ना RSS का मुख्य मकसद है, यह गोलवलकर की पुस्तक में विस्तार से बताया गया है:- 👉 गोलवलकर ने लिखा है कि सत्ता में हमेशा रहने के लिये 95% देश को बर्बाद करना जरूरी है। 👉गोलवलकर के नियम के अनुसार 95 % देशवासियों को गरीब बनाया जाता है और चंद गुलाम किस्म लोगों को ही सर्व शक्तिनान बनाया जाता है, ऐसा करके हमेशा के लिये सत्ता को हथियाया जा सकता है । 👉 नोटबंदी, GST, बैंकों के एनपीए, पीएमसी, सरकारी उपक्रम बेचना, रोजगार खत्म कर देना, दंगे करवा कर खरबों की सम्पति को नुकसान पहुंचना, संविधान को बदल कर कमजोर कर देना, देश से छोटे व्यापार खत्म कर देना और अब यस बैंक का डूबना और वोडाफोन समेत कई कंपनियों को बर्बाद करके बन्द होने पर मजबूर कर देना यह सब एक षड्यंत्र के तहत किया जा रहा है। 👉 UN की रिपोर्ट के अनुसार 2016 से 2018 तक रोज 1095 अमीर भारतीय भारत छोड़ कर विदेशों में बस रहे हैं, इससे खरबो करोड़ विदेश चले गए। 👉 सरकार की नीतियों के कारण कई उद्योगपति डिफाल्डर हो गए, जबकि चंद उद्योगपतियों की दौलत सो गुनी से भी ज्यादा बढ़ गई। ये गुलाम उद्योगपति आप जानते हो अम्बानी, अडानी, रामदेव तथा BJP के अपने कई खास लोग। 👉 जिन उद्योग पतियों ने इनकी बात नहीं मानी उन्हें भारत से निकल जाने में मदद कर दी और खरबो रु डुबो दिया। 👉 जरा गौर करो कि देश की अर्थव्यवस्था डूब रही है और सरकार के चेहरे पर शिकन भी नहीं है। 👉 इन सभी तथ्यों को मिलाकर देखो। वही जो गोलवलकर ने कहा है कि देश को कमजोर करके बर्बाद कर दो। 👉 अपनी किताब *"वी और अवर नेशनहुड डिफाइंड" में गोलवलकर लिखते हैं - एक अच्छे प्रशासन को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उसके राज्य में जनता की आमदनी कम से कम रहे। धनवान नागरिकों पर नियंत्रण करना कठिन होता है, इसलिए दौलत एक दो या ज्यादा से ज्यादा तीन ऐसे लोगों के हाथ में केंद्रित कर दी जानी चाहिए जो प्रशासक के प्रति वफादार हों।* गोलवलकर के उक्त वचन की कसौटी पर सरकार की आर्थिक नीतियों को कसकर देखिए, आपकी समझ में आ जायेगा कि झोल कहां है। उक्त वचन *वी और अवर नेशनहुड डिफाइंड* के सातवें संस्करण के पेज नंबर 40 से लिया गया है. *कृपया पूरे देश को तुरन्त फॉरवर्ड कीजिये।* 🙏