ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
आपातकाल को कोसने से भाजपा के पाप नहीं धुलेंगें: हेमन्त पगारिया
June 28, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • देश / विदेश

 बैतूल। तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा 25 जून 1975 को देश में लगाए गए आपातकाल के 45 वर्ष पूर्व इतिहास की घटना पर भारतीय जनता पार्टी द्वारा 3 दिन तक काला दिवस मनाने की घोषणा का कांग्रेस पार्टी ने कड़ा विरोध करते हुए भारतीय जनता पार्टी पर अपनी गलत नीतियों को छिपाने के लिए इतिहास की घटनाओं का सहारा लेने का आरोप लगाया है।

जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता हेमन्त पगारिया ने जारी बयान में कहा है कि भारतीय जनता पार्टी आपातकाल के नाम पर घडिय़ाली आंसू बहा कर अपने दामन में लगे दाग को धोने की नापाक कोशिश कर रही है । उन्होंने कहा कि जिस लोकतंत्र की दुहाई आज भारतीय जनता पार्टी दे रही है उसी लोकतंत्र को जब भी मौका मिला है उसकी हत्या करने का कार्य भाजपा ने किया है । ताजा उदाहरण हाल ही में मध्य प्रदेश की सरकार को जिस प्रकार से अलोकतांत्रिक एवं अनैतिक साधनों का प्रयोग कर जनता की बहुमत से चुनी हुई सरकार को अपदस्थ करके भाजपा ने जनादेश का कत्ल किया है वह पूरा देश ही नहीं विश्व भी देखा है । कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि किस परिपेक्ष्य में 1975 में इंदिरा गांधी ने आपातकाल लगाया था वह भी बताया जाना चाहिए और देशहित में कितने निर्णय ले कर देश को मजबूत बनाया और विश्व में भारत का एक अलग स्थान स्थापित किया। श्री पगारिया ने कहा कि इंदिरा गांधी ने 1971 में इंदिरा गांधी ने कई ऐतिहासिक निर्णय लिए । बैंकों का राष्ट्रीयकरण ,राजाओं महाराजाओं का प्रीवियर्स समाप्त करना, भारत-पाक युद्ध में पाकिस्तान को नेस्तनाबूद कर बांग्लादेश का निर्माण करना, जिसमें अमेरिका जैसे शक्तिशाली देश ने पाकिस्तान की मदद में सातवां बेड़ा भेज दिया था। लेकिन उसको भी मुंह की खानी पड़ी। इंदिरा गांधी ने विश्व नेता के रूप में दुनिया के नक्शे में भारत की शक्ति का परिचय दिया। इसी कारण अमेरिका पाकिस्तान सहित कुछ देश इंदिरा गांधी से नाराज होकर भारत के साथ साजिश करने लगे । उनकी साजिश में हमारे देश के कुछ नेता दुश्मन देशों से मिलकर देश में अराजकता एवं गृह युद्ध के लिए माहौल बना रहे थे। देश के गद्दारों के षड्यंत्र से अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए के एजेंट प्रधानमंत्री आवास में भी घुस गए थे । सरकार की गोपनीय जानकारियां दुश्मन देश को पहुंचाने लगे थे । उसी समय इलाहाबाद हाई कोर्ट से एक फैसला आया जिसमें इंदिरा का निर्वाचन निरस्त किया गया था। लेकिन उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी इसके बावजूद भी देश के कुछ गद्दार गुमराह करके देश में गृह युद्ध की साजिश कर रहे थे। यदि इंदिरा गांधी समय रहते आपातकाल ना लगाई होती तो आज दुश्मन देश हमारे देश के गद्दारों की साजिश से अपने मकसद में कामयाब हो गए होते। यही कारण था की 1977 में बुरी तरह पराजित होने के बाद मध्यावधि चुनाव में इंदिरा गांधी पूर्ण बहुमत के साथ विजय हुई। श्री पगारिया ने कहा कि आज केन्द्र सरकार विदेश नीति ,रक्षा नीति, अर्थव्यवस्था, रोजगार, शिक्षा, मंहगाई, स्वास्थ एवं कोरोना महामारी से निपटने में पूरी तरह असफल हो चुकी है । नेपाल हमारी सरहद को अपने नक्शे में दिखा रहा है, भूटान हमारा पानी रोक कर हमें आंखें दिखा रहा है। चाइना हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया उसको बाहर निकालने के लिए हमारे 20 जवानों को कुर्बानी देनी पड़ी । पाकिस्तान लगातार हमलावर है। जो देश कभी हमारे अच्छे पड़ोसी मित्र हुआ करते थे आज वह दुश्मन बन गए हैं। भाजपा सरकार की गलत एवं ढुलमुल विदेश नीति देश की छवि धूमिल कर रही है। अपने इन्हीं कृत्यों को छिपाने के लिए पूरे देश में 3 दिन तक आपातकाल के नाम पर घडिय़ाली आंसू बहाने का जो कार्य किया जा रहा है उससे उसके पाप धुलने वाले नहीं हैं । कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि अच्छा होता कि भारतीय जनता पार्टी इतिहास की घटनाओं में अपने निकम्मेपन को छिपाने के बजाय देश को असलियत बताएं और देश से माफी मांगे।