ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
अब तो आंखें मत खोलो इंडिया क्योंकि आपको आत्मनिर्भरता की अफीम चटा दी गई है।पता नही देश वासीओ को असलियत कब समझ आयेगी ?- गोविंद पटेल
June 21, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • लेख /आलेख

लगातार छः वर्ष तक सम्पूर्ण ब्रह्मांड के चक्कर विदेशी वायुयानों की सहायता से लगाने के बाद, लगातार 2 महीने लॉक डाउन के कारण अपने ही देश में क़ैद हो जाने के बाद, गृह त्यागी, पत्नी छोड़, 9 लाख का सूट पहनने वाले, डेढ़ लाख का पेन इस्तेमाल करने वाले, रेयान का चश्मा लगाने वाले, मशरूम की रोटी खाने वाले, 18 घण्टे प्रतिदिन काम करके विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था को नौवें नम्बर पर लाने वाले, छः वर्ष में एक भी हॉस्पिटल व कॉलेज न खोलने वाले, हर समस्या के लिए कांग्रेस, पाकिस्तान व मुस्लिमों को दोषी ठहराने वाले, देश के सामाजिक व आर्थिक ताने बाने को छिन्न भिन्न करने वाले, सभी पड़ोसी देशों को शत्रु बना लेने वाले व 45 वर्षो की सबसे बड़ी बेरोजगारी पैदा करने के बाद 'फकीर' अर्थात व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी व मीडिया द्वारा अवतरित अंधभक्तों के प्रभु को आत्मज्ञान की प्राप्ति हुई। प्रभु ने अपनी तीसरी आंख खोली और कहा कि हमें अब आत्मनिर्भर बनना है। आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रभु ने कहा कि उद्द्योगपतियों का 61 हजार करोड़ कर्ज माफ होगा। रेलवे स्टेशनों व ऐयरपोर्ट की नीलामी होगी। रक्षा क्षेत्र में 74 फीसदी एफ डी आई करनी होगी। कोयला खनन निजी क्षेत्रों को दिया जाएगा। रेलवे का निजीकरण होगा। अमीरों के बच्चों को हवाई मार्ग से घर पहुंचाया जाएगा। गरीबों मजदूरों को पैदल ही लट्ठ खाते हुए, भूखे प्यासे अपने घर को जाना होगा। महान राष्ट्रवादी व हिंदुत्व के रक्षक बाबा जी के 2212 करोड़ कर्ज को माफ करना होगा। जय शाह की कंपनी के 1073 करोड़ कर्ज को भी माफ करना होगा। आम जनता को सभी बिल, फीस समय से जमा करते रहना होगा। कोरोना हेतु जमातियों को दोषी ठहराया जाएगा मगर अहमदाबाद के नमस्ते ट्रम्प का कोई जिक्र तक नही किया जाएगा। पुजारियों को आर्थिक सहायता दी जाएगी। कर्मचारियों को अपना डी ए छोड़ना होगा। लोकसभा सदस्यों के भत्ते बढ़ाने होंगे। गरीबों के समस्त अधिकार खत्म करने होंगा जो सवाल पूछेगा वह राष्ट्रद्रोही व पाकिस्तानी होगा।  तो आंखें मत खोलो इंडिया क्योंकि आपको आत्मनिर्भरता की अफीम चटा दी गई है।पता नही देश वासीओ को असलियत कब समझ आयेगी ?