ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
बाढ़ एवं आपदा के संबंध में नीमच मन्दसौर की संयुक्त बैठक गांधी सागर में संपन्न
June 13, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

मन्दसौर - सांसद श्री सुधीर गुप्ता द्वारा बाढ़ एवं आपदा के संबंध में गांधी सागर स्थित हिंगलाज रिसोर्ट में आकस्मिक बैठक आयोजित की गई। बैठक के दौरान उन्होंने गांधी सागर बांध से जुड़े अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि गांधी सागर बांध के गेट इंदौरए उज्जैनए धार प्रतापगढ़ एवं अन्य जुड़े हुए क्षेत्रों में होने वाली भारी बारिश के आधार पर गेट समय पर खोले जाए। गेट खोलने में किसी प्रकार की लापरवाही ना करें। इसलिए आसपास की जमीन सूखा प्रभावित भी रह सकती है। बैठक के दौरान सांसद श्री सुधीर गुप्ताए गरोठ विधायक श्री देवी लाल धाकड़ए मनासा विधायक श्री माधव मारूए मंदसौर कलेक्टर श्री मनोज पुष्पए नीमच कलेक्टर श्री जितेंद्र सिंह राजेए मन्दसौर पुलिस अधीक्षक श्री सिद्धार्थ चौधरीए नीमच पुलिस अधीक्षक श्री मनोज कुमार रायए अपर कलेक्टर श्री बी एल कोचलेए गरोठ एडिशनल एसपीए गरोठ एसडीएम श्री केसी ठाकुर एवं गांधी सागर बांध से जुड़े सभी कृषि विभागए जल संसाधन विभाग एवं सिंचाई विभाग के अधिकारी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि 1.1 इंच भूमि की सिंचाई करना प्रदेश सरकार कि पहला उद्देश्य है एवं योजना भी है। प्रदेश सरकार इस क्षेत्र में लगातार काम कर रही हैं। इसलिए पानी व्यर्थ ना जाए। साथ ही सिंचाई के क्षेत्र पर भी कोई प्रभाव ना हो। इस बात का भी विशेष तौर पर ध्यान रखा जाए। कृषि नस्ट नहीं होना चाहिए इस बात का विशेष तौर पर ध्यान रखें। जिम्मेदार दल नीमच एवं मंदसौर कलेक्टर को समय समय पर सही रिपोर्ट देंगे। साथ ही दोनों जिले के कलेक्टर भी इन दलों के कार्यों को ध्यान में रखेंगे।

चंबल के आसपास के जो गांव है उन गांव में सूचना तंत्र मजबूत किया जाए। जैसे ही नदी में पानी बढ़ता है गांव में तुरंत सूचना पहुंचाई जाए। साथ ही गांव में इस बात के संकेत भी लगाया जाएए कि इस स्तर तक नदी का जलस्तर कितना फिट हो जाता है। कलेक्टर निरंतर जवाबदार दलों की निगरानी करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि चंबल माता दर्शन स्थल को साफ सुथरा किया जाए तथा वहां तक जाने के लिए रास्ते को एकदम अच्छा बनाया जाए। जिससे पर्यटक आसानी से चंबल माता दर्शन तक पहुंच सके।  जिसकी यह प्रमुख जिम्मेदारी हैए कि पिछली बार की तरह फिर से कोई गलती नहीं दोहराई जाए। गांधी सागर बांध पर मेंटेनेंस एवं पानी भराव क्षमता का कार्य देखने वालों के द्वारा बताया गया कि इस वर्ष 1304 फीट तक मेंटेनें किया जाएगा। 15 अगस्त तक 1305 फिट तक गांधी सागर बांध के जल को मेंटेन किया जाएगा। उसके पश्चात अतिरिक्त जल को छोड़ा जाए। इस पर सांसद श्री गुप्ता द्वारा कहा गया कि दिनांक के अनुसार चलना ठीक नहीं है। इसलिए आसपास के क्षेत्रों में होने वाली वर्षा के आधार पर यह निश्चित किया जाए। कि कब गांधी सागर बांध से पानी छोड़ना है एवं कब रोकना। हो सकता है पानी छोड़ने के पश्चात क्षेत्र में बारिश न हो या कम हो