ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
ब्रेकीग न्यूज,,,,* *सिंधिया समर्थकों की शिवराज से मुलाकात* *पूर्व विधायको ने उपचुनाव से पहले सीएम को सौंपी क्षेत्र के कामों की सूची*
May 22, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

(आशीष पेंढारकर) *उपचुनाव में कांग्रेस मजबूत, वजनदार, कद्दावर नेताओं को उरेगी* *बीएसपी सभी 24 सीटों पर लड़ेगी उपचुनाव* भोपाल। उपचुनाव को लेकर क्षेत्र से ज्यादा भोपाल में हलचल बढ़ गई है। भोपाल में बैठे दिग्गज नेता अपनी-अपनी पार्टी की रणनीति पर काम कर रहे हैं। सिंधिया समर्थकों ने सीएम शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात कर उपचुनाव को लेकर अपने विचार सीएम को बताये। इस दौरान पूर्व विधायकों ने सिंधिया के सामने 678 करोड़ रुपये के प्लान को रखा है। सिंधिया खेमे के लोगों ने सीएम के सामने यह प्लान अपनी जीत सुनिश्चित करने में लाभदायक होगा। दरअसल, सिंधिया खेमे के लोग चाहते हैं कि चुनाव से पहले क्षेत्र में कुछ ऐसे काम कराए जा सकें, जिससे लाभ हो। इमरती देवी, एंदल सिंह कंसाना और प्रद्युमन सिंह तोमर सीएम शिवराज से पहले ही मिल चुके हैं। जजपाल सिंह जज्जी, महेंद्र सिंह सिसोदिया, बृजेंद्र सिंह यादव, सुरेश धाकड़, प्रभुराम चौधरी, रक्षा सिरोनिया, रघुराज कंसाना और गिर्राज दंडोतिया ने सीएम से मुलाकात की। *678 करोड़ का प्लान* इन सभी पूर्व विधायकों ने सीएम शिवराज सिंह चौहान से बात की। साथ ही कुछ प्लान भी रखें। ये सभी प्लान क्षेत्र में काम से संबंधित हैं। पूर्व विधायकों ने सीएम के समक्ष मेडिकल कॉलेज और सड़कों के कई कामों की सूची सौंपी, जिसे चुनाव से पूर्व करवाने के लिए कहा है। इन कामों को पूरा करने में 678 करोड़ रुपये खर्च होंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सीएम ने पूर्व विधायकों की मांग पर आश्वासन दिया है कि काम जल्द ही प्रारंभ होंगे। जल्द ही इन क्षेत्रों के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान कुछ योजनाओं की घोषणा भी कर सकते हैं। सीएम इससे पहले ग्वालियर-चंबल संभाग के चंबल प्रोग्रेस वे की घोषणा कर चुके हैं। उन्होंने इस पर जोर देते हुए कहा था कि इससे उस क्षेत्र में आर्थिक प्रगति आएगी। *उपचुनाव पर भी चर्चा* क्षेत्र में उपचुनाव की स्थिति को लेकर भी सीएम शिवराज के साथ इन विधायकों ने चर्चा की। जानकारी के अनुसार कई सीटों पर विरोध के स्वर भी उठ रहे हैं। उससे भी इन विधायकों ने सीएम को अवगत कराया है, क्योंकि पार्टी आलाकमान इन नाराज लोगों को भोपाल तलब कर उनसे मुलाकात कर रही है। जयभान सिंह पवैया ने भी कई नेताओं से मुलाकात की। *कांग्रेस मजबूत, वजनदार, कद्दावर नेताओं को उपचुनाव में उतारेगी* प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने उपचुनाव की तैयारी शुरू कर दी है और इन सीटों के लिए मजबूत, दमदार, वजनदार, कद्दावर नेताओं को उपचुनाव में उतारने के लिए तैयारी कर रहे हैं। कांग्रेस की सरकार गिराकर बीजेपी ने सरकार बनाई है और कमलनाथ हर हाल में उपचुनाव जीतकर प्रदेश में बीजेपी व सिंधिया से बदला लेना चाहते हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अजय सिंह, मीनाक्षी नटराजन, रामनिवास रावत, प्रेमचंद गुड्डू, आदि वजनदार, कद्दावर नेताओं को उपचुनाव में उतारने की रणनीति अपनाना चाहते हैं। औऱ बीजेपी के असंतुष्ट, बगावती नेताओं पर भी कमलनाथ की नजर टिकी हुई है। निर्दलीय उम्मीदवार या भितरघात करवाने के लिए कमलनाथ बीजेपी के नेताओं के सम्पर्क में है। *कमलनाथ होंगे अब दिग्विजय सिंह का शिकार* कमलनाथ उपचुनाव में एड़ी चोटी का जोर लगा दे। यदि उपचुनाव में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार जीत जाते है तो विधायक दल की बैठक में दिग्विजय के समर्थक अधिक संख्या में हैं और कमलनाथ समर्थकों की संख्या कम होने के कारण अजय सिंह को विधायक दल का नेता चुनेंगे औऱ कमलनाथ दिग्विजय सिंह के शिकार हो जायेगे। कमलनाथ की मीटिंग में दिग्विजय सिंह के समर्थक अजय सिंह व डॉ गोविंद सिंह ने भारी विरोध किया था। कमलनाथ का रास्ता प्रदेश कांग्रेस में आसान नहीं है। उपचुनाव हारने की दशा में कमलनाथ की विदाई प्रदेश से तय है और दिग्विजय सिंह के समर्थक व रिस्तेदार अजय सिंह ही प्रदेश कांग्रेस में सशक्त भूमिका अदा करेगे। *बीएसपी भी मैदान में* बीएसपी प्रमुख सुश्री मायावती ने उपचुनाव में सभी 24 सीटों पर उपचुनाव लड़ने की घोषणा की है और किसी भी पार्टी से कोई समझौता करने से इंकार कर दिया है।