ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
चीन और भारत के बीच सीमा पर तनाव के बीच सोमवार को भारत सरकार ने चीन के 59 ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया है. टिकटॉक के ये सितारे अब कहां दिखाएंगे अपना टैलेंट
July 1, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • देश / विदेश

हालांकि, भारत ने ऐप्स को सुरक्षा के लिहाज से ख़तरा बताया है. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है, "एंड्रॉयड और आईओएस पर ये ऐप्स लोगों के निजी डेटा में सेंध लगा रहे थे. इन ऐप्स पर पाबंदी से भारत के मोबाइल और इंटरनेट उपभोक्ता सुरक्षित होंगे. यह भारत की सुरक्षा, अखंडता और संप्रभुता के लिए ज़रूरी है."

वीडियो के लिए आइडिया सोचना, उसे शूट करना और फिर टिकटॉक पर डालकर लोगों की प्रतिक्रिया का उत्सुकता से इतज़ार करना. टिकटॉक स्टार सनातन महतो और उनकी बहन सावित्री कमारी के लिए ये उनकी दिनचर्या का अहम हिस्सा था. लेकिन, फ़िलहाल सबकुछ थम-सा गया है. टिकटॉक पर ना तो वीडियो हैं और ना लोगों के लाइक्स और कमेंट. कई टिकटॉक यूजर्स हैं जिन्होंने टिकटॉक के ज़रिए ना सिर्फ पहचान बनाई बल्कि ये उनके लिए कमाई का एक ज़रिए भी बन गया है. शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक टिकटॉक स्टार्स मौजूद हैं. फिलहाल उनके लिए ये एक बड़ा बदलाव है. टिकटॉक यूजर्स ने दिया समर्थन हालांकि, फिर भी टिकटॉक यूजर्स सरकार के इस फैसले में साथ खड़े होने की बात कर रहे हैं. भारतीय जवानों को समर्थन दे रहे हैं और साथ ही इसका विकल्प भी तलाश रहे हैं. जैसा कि सनातन महतो और सावित्री कुमारी ने बताया कि वो सरकार के इस फैसले के साथ हैं और अब दूसरे प्लेटफॉर्म पर आगे बढ़ने के बारे में सोच रहे हैं. वहीं, टिकटॉक से कमाई को लेकर सावित्री कुमारी कहती हैं, “टिकटॉक में हमारी कोई कमाई नहीं हो रही थी लेकिन, इससे हमारी पहचान बनी है. ये भी सच है कि इसमें हमें टिकटॉक से ही मदद मिली है लेकिन फिर भी हम सरकार के हर फैसले के साथ हैं."

टिकटॉक छोड़ देंगी सोनाली फोगाट बीजेपी नेता और टिकटॉक स्टार सोनाली फोगाट कहती हैं कि सरकार के फैसले के समर्थन में वो टिकटॉक छोड़ देंगी. सोनाली फोगाट टिकटॉक से काफ़ी लोकप्रिय हई थी और उनके लाखों फोलोआर्स भी हैं. बाद में वो राजनीति में आ गईं और बीजेपी में शामिल हो गईं.

दूसरे प्लेटफॉर्म का विकल्प आंकड़ों के मुताबिक भारत में टिकटॉक (म्यूजिकली के साथ) के तकरीबन 30 करोड़, लाइकी के तकरीबन 18 करोड़, हेलो के 13 करोड़, शेयर-इट, यूसी ब्राउजर के 12 करोड़ के आसपास यूजर्स हैं. ये आंकड़े 2019 के हैं. टिकटॉक स्टार ऐजे के टिकटॉक पर 10 मिलियन फोलोवर्स हैं. हालांकि, फिर भी वो टिकटॉक बैन होने से दुखी नहीं हैं. वह कहते हैं, “सरकार जो करती है हमारी भलाई के लिए ही करती है. महामारी के समय पर चीन सीमा पर जाने क्या करना चाहता है. मैं यूट्यूब और इंस्टाग्राम जैसे दूसरे प्लेटफॉर्म पर भी हूं और टिकटॉक वापस आए या ना आए कोई बात नहीं है." उन्होंने कहा कि ये एक छोटी-सी पहल है पर अगर सभी देशवासी चाइनीज़ ऐप का इस्तेमाल छोड़ दें तो इससे बहुत बड़ा फर्क पड़ेगा. चीन हमसे पैसे कमाकर हमारे ख़िलाफ़ इस्तेमाल नहीं कर सकता. अगर हम पीपीई किट बना सकते हैं तो क्या हम अपना एक खुद का ऐप नहीं बना सकते. भारत में टिकटॉक पर प्रतिबंध के साथ ही अब लोग भारतीय ऐप्स का भी रुख करने लगे हैं. सरकार के फ़ैसले के एक दिन बाद ही भारतीय शॉर्ट वीडियो ऐप्स चिंगारी और मित्रों को बड़े स्तर डाउनलोड किया जाने लगा है. चिंगारी के सीईओ सुमित घोष ने मंगलवार को जानकारी दी कि उनका ऐप एक घंटे में एक लाख डाउनलोड हो गया. उन्होंने लोगों को धैर्य बनाए रखने के लिए कहा क्योंकि इतने ज़्यादा डाउनलोड से उनका सर्वर क्रैश होने की स्थिति आ गई है. उन्होंने कहा कि वो लगातार काम कर रहे हैं.