ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
एक खंबे पर लटकी है शिवराज मंत्रीमंडल की इमारत* - भूपेंद्र गुप्ता
July 2, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

 *प्रदेश की सत्ता ग्वालियर में सिमटी,बाकी प्रदेश प्यासा रह गया* *भ्रष्टाचार के झूठे आरोप लगाने के पहले सिंधिया जी अपने पुराने छः मंत्रियों की जांच करायें : 

भोपाल,-  मध्य प्रदेश सरकार का नया मंत्रिमंडल क्षेत्रीय असंतुलन जातीय संतुलन एवं सामाजिक असंतुलन का एक नया स्मारक है ।इसमें पूरा का पूरा मंत्रिमंडल ग्वालियर चंबल क्षेत्र ने हाईजैक कर लिया है ।मंत्रिमंडल में 10 राजपूत ,तीन ब्राह्मण ,5 अनुसूचित जाति ,3 अनुसूचित जनजाति एवं 9 पिछड़ा वर्ग से मंत्री बनाए गए हैं ।कई संभागों की घोर उपेक्षा की गई और जिन क्षेत्रों में कोरोना की भीषण मार पड़ी है उनकी पूरी तरह अनदेखी की गई है।प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने राज्यसभा सांसद ज्योतिराज सिंधिया के उस बयान की आलोचना की है जिसमें उन्होंने कमलनाथ सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाएहैं। गुप्ता ने कहा कि सिंधिया खेमे के ही विधायक रणवीर सिंह जाटव ने आरोप लगाए थे कि तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट बेटे के माध्यम से लेनदेन करते हैं ।अगर भ्रष्टाचार से सिंधिया जी लड़ना चाहते हैं तो तुलसी सिलावट को उप मुख्यमंत्री क्यों बनवाना चाहते हैं? इसी तरह आज भाजपा के वरिष्ठ विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया और वीरेंद्र रघुवंशी द्वारा खाद्य मंत्री गोविंद राजपूत पर परिवहन घोटाले के आरोप लगाए गए हैं इन आरोपों के बावजूद यह दोनों मंत्री सिंधिया जी के आंख के तारे क्यों हैं ?क्या सिंधिया जी इन मंत्रियों के खिलाफ जांच की मांग करेंगे? कमलनाथ सरकार में भी जिन मंत्रियों पर भाजपा भ्रष्टाचार के आरोप लगाती थी वह सब भी उन्हीं के कोटे से मंत्री क्यों बनाए जा रहे हैं कमलनाथ की सरकार पर झूठे आरोप लगाकर भ्रष्ट मंत्रियों को फिर से मंत्री बनवाने का काम कौन कर रहा है? इसका जवाब उपचुनाव में जनता के माध्यम से आएगा । गुप्ता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी एक छायादार वृक्ष है बहुत से राहगीर आते हैं छाया में बैठ कर चले जाते हैं इससे ना कांग्रेस की छाया कम होती है ना उसका स्वभाव ।जाने वालों की नीयत से जरूर दुनिया रूबरू हो जाती है।