ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
एनसीआरबी के आंकड़े भाजपा के अच्छे दिनों की कहानी कह रहे
September 5, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • राजधानी - भोपाल

 

शिवराज सिंह चौहान ने मध्य प्रदेश को आत्महत्याओं का हब बना दिया है,सीहोर सर्वाधिक आत्महत्या करने वाला जिला बना: जीतू पटवारी

भोपाल,

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया प्रभारी, पूर्व मंत्री और कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने हाल ही में आई राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ताजा रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया दी हैहै। जीतू पटवारी ने कहा कि मोदी जी, शवराज जी जी और भारतीय जनता पार्टी एनसीआरबी के आंकडे यह बताते है कि देश में कितनी भयावाह स्थिति है।

उन्होंने कहा कि 2019 सबसे अधिक आत्महत्या करने वाला वर्ष बन गया है। वर्ष 2019 में 10281 किसानों और खेतिहर मजदूरों ने जान दी है। जबकि 32,559 दिहाड़ी मजूदरों ने इस अवधि में में आत्महत्या की है। साल 2019 में कुल 139,123 लोगों ने पूरे देश में जान दी। पूरे देश में मौत को गले लगाने वाले लोगों में 7.4 फीसदी लोग खेती से जुड़े किसान और खेतिहर मजूदर थे यही नहीं आत्महत्या करने वालों में बेरोजगार युवा भी थे।

पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि क्या यही वह अच्छे दिन है जिसे भारतीय जनता पार्टी, मोदी जी और शिवराज जी ने देने का वादा किया था। अब लोग गुहार लगा रहे हैं कि हमें हमारे पुराने दिन ही ही लौटा दो। जीतू पटवारी ने बताया कि गृह मंत्रालय के आधीन आने वाले राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के अनुसार मेरे प्रदेश मध्य प्रदेश में 12,457 किसान, मजदूरो और युवा बेरोजगारों ने आत्महत्या की है।

उन्होनें कहा कि यह प्रदेश की वस्तु स्थिति है, और यही शिवराज सिंह चौहान का असली चेहरा है। मध्य प्रदेश को आत्महत्याओं का हब बना दिया है। जीतू पटवारी ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान जिस जिले सीहोर की बुधनी विधानसभा से चुनकर आते है वहाँ पिछले तीन दिनों में तीन-तीन लोगों ने आत्महत्या की है। यह देश का सबसे अधिक आत्महत्या करने वाला जिला बना हुआ है।

. . प्रा . IN जीतू पटवारी ने कहा कि जब मुख्यमंत्री जी से किसानों, मजदूरों और युवा बेरोजगारों की आत्महत्या को लेकर सवाल किए जाते है तो उनके मंत्री कहते है कि किसान की मानसिक स्थिति स्थिति ठीक नहीं है, मुझे उनके इस उत्तर से आती है दुःख होता है। किसान जब अन्न उगाकर देता है, देश का पेट भरता है, तब वह भगवान होता है। वह जब परेशान होकर आपकी यातनाओं से या करने को मजबूर होता है तब मुख्यमंत्री जी और आपके मंत्री उनकी मानसिक स्थिति, दिमाग खराब होने का वक्तव्य देते है। पटवारी ने कहा कि किसान देख रहा है, किसान की आह ऐसी लगेगी कि आप समझ नहीं पाओगे शिवराज जी कि आपने गोलियां चलवाई थी, मुकदमें मुकदमें लगवाए थे, थाने में पिटवाया था अब उनकी उनकी आह ले रहे हो यही एनसीआरबी के आंकडे बताते है