ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
घोडाडोंगरी को पुनः नगर परिषद का दर्जा देने की मांग घोड़ाडोंगरी संघर्ष समिति ने सीएम के नाम सौपा ज्ञापन - दैनिक रोजगार के पल समाचार पत्र भी कंधे से कंधा मिलाकर देगा साथ - घोड़ाडोंगरी से आशीष पेंढारकर की खबर
June 12, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

बैतुल -

घोडाडोंगरी संघर्ष समिति ने घोड़ाडोंगरी को पुनः नगर परिषद बनाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम ज्ञापन सौंपा। संघर्ष समिति के अध्यक्ष जतिन अरोरा ने बताया कि भाजपा शासन में घोडाडोंगरी ग्राम पंचायत को विकास की गति देने हेतु मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह की घोषणा पर नगर परिषद का दर्जा दिया गया था। जिसका राजपत्र भी जारी कर दिया गया था ।लेकिन कांग्रेस सरकार ने भाजपा के इस निर्णय को निरस्त करते हुए घोडाडोंगरी सहित 22 नवगठित नगर परिषद को वापस ग्राम पंचायत करने का कैबिनेट में प्रस्ताव पास कर महामहिम राज्यपाल को भेजा। इस पर घोडाडोंगरी सहित 22 नगर परिषद को ग्राम पंचायत बनाने की राजपत्र की अधिसूचना जारी कर दी गई। जिसके बाद प्रशासनिक स्तर पर अब घोडाडोंगरी को वापस ग्राम पंचायत बनाने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है।कांग्रेस सरकार का यह निर्णय जनता के खिलाफ है हमारी समिति इसका विरोध करती है घोडाडोंगरी को पुनः नगर परिषद का दर्जा दिए जाने की मांग करती है। समिति के सचिव विकास सोनी ने बताया कि नगर परिषद की मांग को लेकर कांग्रेस सरकार के विरोध में नगर की जनता एवं भाजपा नेताओं ने मार्च माह में नगर में रैली एवं प्रदर्शन कर प्रशासन को ज्ञापन भी सौंपा था। इसके बावजूद भी घोडाडोंगरी नगर परिषद को ग्राम पंचायत बनाने की कार्रवाई की जा रही है। कांग्रेश शासनकाल के दौरान लिया गया। यह निर्णय जनता के साथ धोखा है । समिति के नारायण मालवीय व गोविंदा अग्रवाल ने बताया घोडाडोंगरी को नगर परिषद बनाया जाना चाहिए जिससे कि घोडाडोंगरी का तेजी से विकास हो सके। संघर्ष समिति के महामंत्री विनोद पातरिया ने बताया कि कांग्रेस सरकार द्वारा घोडाडोंगरी के विकास के लिए भाजपा सरकार में लिए गए नगर परिषद बनाने के निर्णय को परिवर्तित करने से घोडाडोंगरी के विकास की गति को रोकने का प्रयास किया गया है।हम इसका कड़ा विरोध करते है। समिति के कोषाध्यक्ष आभाष मिश्रा ने बताया कि मुख्यमंत्री जी से निवेदन किया जा रहा है कि जनहित को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस शासन द्वारा पूर्व में दिए गए घोडाडोंगरी नगर परिषद को निरस्त करने के प्रस्ताव को रद्द करते पुनः घोडाडोंगरी को नगर परिषद का दर्जा दिया जाए। ज्ञापन सौंपने वालो में जतिन अरोरा,विकास सोनी,आभाष मिश्रा, विनोद पातरिया ,नारायण मालवीय,गोविंदा अग्रवाल,मोहित दुबे,विवेक जैन ,दीपक धोटे, विष्णु सोनी,निक्की मालवीय, दिनेश अतुलकर,राहुल देशमुख,जतिन प्रजापति राहुल माखीजा,सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।