ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
गो-हत्या निवारण अध्यादेश में संशोधन को यूपी सरकार ने दी मंजूरी- आज की बड़ी ख़बरें
June 10, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • देश / विदेश

उत्तर प्रदेश सरकार ने गो हत्या निवारण कानून को और अधिक मज़बूत बनाने के मकसद से इसमें संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. इस अध्यादेश के तहत यूपी में गाय की हत्या पर 10 साल तक की सज़ा और 3 से 5 लाख रुपये तक का जुर्माना हो सकता है. इसके अलावा गोवंश के अंग भंग करने पर 7 साल की जेल और 3 लाख तक जुर्माना लगेगा. यूपी के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि राज्य कैबिनेट ने साल 1955 के इस कानून में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. राज्य विधानमंडल का सत्र न होने की वजह से उत्तर प्रदेश गोवध निवारण (संशोधन) अध्यादेश, 2020 लाने का फैसला लिया गया है. सरकार का कहना है कि इस संशोधन से गोवंशीय पशुओं का संरक्षण एवं परि-रक्षण प्रभावी ढंग से हो सकेगा और गोवंशीय पशुओं के अनियमित परिवहन पर अंकुश लगाने में भी मदद मिलेगी. बुरुंडी के राष्ट्रपति का निधन, कार्डियक अरेस्ट से हुई मौत बुरुंडी के राष्ट्रपति पीएर-न्कुरूनज़ीज़ा का 65 साल की उम्र में निधन हो गया है. सरकारी सूत्रों का कहना है कि उनका निधन कार्डियक अरेस्ट की वजह से हुआ. ऑयल इंडिया लिमिटेड के गैस के कुएं में आग लगने की यह घटना मंगलवार दोपहर करीब डेढ़ बजे की है. गांव वालों के अनुसार इस आग में अबतक 20 से अधिक घर जलकर राख हो गए है. गुवाहाटी में मौजूद स्थानीय पत्रकार दिलीप कुमार शर्मा के मुताबिक गैस के कुएं की आग लगातार फैलती जा रही है. इससे आसपास के इलाकों में आतंक का माहौल है. गैस के कुएं में आग इतनी भंयकर तरीके से लगी है कि दो किलो मीटर दूर से इसकी लपटें दिखाई दे रही है. इस घटना के बाद मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान से स्थिति से निपटने पर बात की है. गैस रिसाव के प्रभाव को रोकने के लिए कई दिनों से वहां पानी का छिड़काव किया जा रहा था. गैस के कुएं वाले इलाके के बिल्कुल पास डिबू सैखोवा नेशनल पार्क है. बाघजान गांव के पास डिबू नदी का पानी गैस रिसाव के कारण पूरी तरह प्रदूषित गया है. असम सरकार का वन विभाग के मुताबिक गैस रिसाव की इस घटना से पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंचा है.