ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
जिले में किल कोरोना अभियान का शुभारंभ
July 1, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

 

अभियान को सफल तरिके से संचालित करने के लिये समस्त एस.डी.एम., ब्लाक मेडिकल आफिसर, परियोजना अधिकारी आईसीडीएस, ब्लाक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये गये है

मन्दसौर - जिले में कोरोनावायरस संक्रमण से रोकथाम एवं बचाव के लिए आज प्रातः से ही सभी जनप्रतिनिधियों ने अपने अपने क्षेत्र में किल कोरोना अभियान को प्रारंभ कियाअभियान को सफल तरिके से संचालित करने के लिये समस्त एस.डी.एम., ब्लाक मेडिकल आफिसर, परियोजना अधिकारी आईसीडीएस, ब्लाक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये गये है कि कार्य को चरणबंद्ध पूर्ण किया जावे, अभियान के लिए 237 सर्वेलेंस टीम का गठन किया गया है जिसमें एएनएम, एमपीडबल्यु, एमपीएस को रखा गया है, जिनके द्वारा फीवर सर्वे कार्य किया जावेगा। 1165 पायलेट टीम का गठन किया गया है जिसमें आशा / आंगनवाडी कार्यकर्ता रहेगी जो घर-घर जाकर कोरोना / मलेरिया / डेंगू / टीबी / बुखार / गर्भवती महिलाएँ / टीकाकरण से छुटे बच्चों की जानकारी संकलित करेंगी 90 दल सुपरवाईजर के बनाये गये है।

इसमें शिक्षा विभाग, महिला एवं बालविकास विभाग, पंचायत एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों को सुपरविजन का दायित्व दिया गया है जो कि सर्वे के दौरान आवंटित ग्रामों का भ्रमण कर सुपरविजन किया जावेगा। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अधीर कुमार मिश्रा द्वारा बताया गया कि “किल कोरोना' अभियान प्रथम कदम – प्रत्येक ग्राम में घर-घर सर्वे टीम जायेगी। सर्वे टीम में आशा कार्यकर्ता, आंगनवाडी कार्यकर्ता रहेगी, जो कि लोगों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेगी। द्वितीय कदम – सर्वे के बाद चिन्हित किये गये मरीजों की जॉच पर्यवेक्षक टीम करेगी। इस टीम में एएनएम, एमपीडबल्यु, एमपीएस व महिला बाल विकास विभाग के पर्यवेक्षक शामिल होगे। कोरोना डेंगू जैसी बिमारियों के लक्षण वाले मरीजों का पल्स ऑक्सीमीटर, दुर से तापमान लेने वाले थर्मामीटर से तापमान लिया जावेगा और उनके रक्तचाप का परीक्षण किया जावेगा। तीसरा कदम - परीक्षण में कोरोना वायरस के लक्षण पाये जाने पर सेम्पल टीम द्वारा संबंधित व्यक्ति का सेम्पल लेकर कोरोना की जॉच करायी जावेगी व फीवर क्लीनिक में उनका उपचार किया जावेगा। चौथा कदम – कोरोना पॉजिटीव आने वाले मरीजों का कोविड केयर सेन्टर और डेडीकेटेड कोविड हास्पीटल में उपचार होगामलेरिया बुखार से पीडित मरीजों का भी सर्वे के दौरान उपचार उपलब्ध करवाया जावेगा