ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
जिले में विलुप्त हो रही मुर्गियों की कड़कनाथ प्रजाति को बचाने के लिए मध्यप्रदेश शासन द्वारा अनुदान आधारित कड़कनाथ इकाई की स्थापना हेतु पहल
May 20, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

(सुनील जोशी) जोबटअलीराजपुर - जिले में विलुप्त हो रही मुर्गियों की कड़कनाथ प्रजाति को बचाने के लिए मध्यप्रदेश शासन द्वारा अनुदान आधारित कड़कनाथ इकाई की स्थापना हेतु पहल की जा रही है । इसी कड़ी में पशु चिकित्सा विभाग उदयगढ़ द्वारा आजीविका मिशन के महिला स्वयं सहायता समूह के 58 सदस्यों को 2320 कड़कनाथ के 28 दिन के चूजे टीकाकरण कर वितरित किए गए डॉ राजेंद्र डामोर ने बताया कि ए एम० एल०परमारए उपसंचालक पशु चिकित्सा सेवाएं अलीराजपुर के निर्देशन में उदयगढ़ विकासखंड में आजीविका मिशन के अमले के साथ मिलकर 58 कड़कनाथ इकाई स्थापित की गई है । जिसमें प्रति हितग्राही को 28 दिवस के 40 चूजें ए 50 किलोग्राम दानाए दवाइयां डीवार्मिंगए एंटीबायोटिक सप्लीमेंट्री फिड एवं दवाइयां दी गई वितरण के दौरान सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुए हितग्राहियों को दूर-दूर बिठाया गया थाए और उनको चूजों को घर ले जाकर पानी में ओआरएस घोल मिलाकर पिलाने तथा रखरखाव के बारे में जानकारी दी गई 8 ससाह बाद राजकुमार जाटव पोल्ट्री वैक्सीनेटर एवं जोगेंद्रसिंह रावत एवीएफओ के माध्यम से रानीखेत वैक्सिंग से टीकाकरण का कार्य करवाया जाएगा

आजीविका मिशन के विकासखंड प्रबंधक विजय सोनी के अनुसार योजना की कुल लागत !! 0 4400६. है जिसमें हितग्राहियों से 1100 रुपये अंशदान के रूप में तथा शेष !! 3300६ अनुदान के रूप में शासन द्वारा जमा किए गये हैं सीईओ पवन शाह जनपद पंचायत उदयगढ़ ने ग्राम खंडाला खुशाल में भ्रमण कर वितरित चूजों के रखरखाव एवं आजीविका मिशन के समूह सदस्य द्वारा की जा रही विभिन्न गतिविधियों जैसे सब्जी उत्पादन अजोला निर्माण इकाईए ट्यूबवेल खनन आदि का अवलोकन कर उसके बारे में जानकारी प्राप्त की। श्रीमती झूमी कलमसिह ने दाने के साथ चूजों को अजोला मिलाकर खिलाने के साथ समूह से ऋण लेकर सब्जी उत्पादन के बारे में भी बताया सीईओ ने समूह सदस्यों के प्रयासों को सराहा एवं मिशन तथा पशु विभाग के कार्यों की सराहना की । सहयोग दल सदस्य दिनेश वसुनियाए भूरिया परमार ए नीना राठौड़ भी सदस्यों को सहयोग कर रहे हैं