ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
केबिनेट मंत्री उषा ठाकुर को मंत्रीमण्डल से हटाने की मांग की है।
September 29, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

कांग्रेस समर्थकों को देशद्रोही बताने वाली मंत्री उषा ठाकुर को मंत्रिमंडल से हटाने की मांग कांग्रेस ने की चुनाव आयोग से शिकायत

भोपाल,

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता चुनाव आयोग कार्य प्रभारी जे.पी. धनोपिया ने आज चुनाव आयोग को एक पत्र सौंपकर प्रदेश की केबिनेट मंत्री उषा ठाकुर को मंत्रीमण्डल से हटाने की मांग की है। धनोपिया ने कहा कि प्रदेश में आसन्न उपचुनावामें में कांग्रेस का समर्थन करने वालों को उषा ठाकुर द्वारा देशद्रोही कहा गया है जो लोकतंत्र में बेहद निंदनीय बयान है धनोपिया ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी एवं उनके नेताओं के द्वारा आगामी उप चुनावों में राष्ट्रवाद एवं साम्प्रदायिकता का जहर घोल कर चुनाव को प्रभावित करने का लगातार षडयंत्र किया जा रहा है, जिसके संदर्भ में पहले भी शिकायतें की जा चुकी है कि राम मंदिर के नाम पर भाजपा राजनीति कर मतदाताओं से वोट डालने का कार्य कर रहे हैं और आज प्रदेश की मंत्री सुश्री उषा ठाकुर जो कि आरएसएस पृष्ठ भूमि की नेता है के द्वारा आज इलेक्ट्रानिक चेनल पर प्रदेश में होने वाले 28 उप चुनावों के संबंध में बयान दिया है कि 'देखिये यह निर्वाचन वैचारिक युद्ध है, देशभक्त और देश द्रोही के बीच का निर्वाचन है जिनको राष्ट्रवादिता से प्रेम है वे भाजपा के साथ है एवं जो राष्ट्रवाद से विमुक्त है वे कांग्रेस के साथ है । उन्होंने कहा कि यह राष्ट्रवाद और देशद्रोही के बीच का चुनाव है तात्पर्य भाजपा को वोट देने वाले राष्ट्रवादी एवं कांग्रेस को वोट देने वाले देशद्रोही होंगे

धनोपिया ने चुनाव आयोग से मांग की है कि प्रदेश में होने वाले 28 विधानसभा क्षेत्रों के उप चुनावों में भाजपा द्वारा षडयंत्रपूर्वक प्रदेश का साम्प्रदायिक सद्भाव का ताना-बाना छिन्न-भिन्न कर माहौल बिगाडने का प्रयास किया जा रहा है, तथा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को वोट देने वालों को देशद्रोही की श्रेणी में शामिल किया जाना गंभीर अपराध है, इसलिए ऐसे व्यक्ति को मंत्री मंडल से तत्काल हटाने की कार्यवाही की जावे, साथ ही उन्हें आगामी विधानसभा उप चुनाव में चुनाव के प्रचारप्रसार से भी अलग रखे जाने के आदेश पारित किये जावे जिससे कि विधानसभा के उप चुनाव निष्पक्ष, स्वतंत्र एवं शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हो सके जो कि न्यायोचित होगा।