ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
मनहरण घनाक्षरी ****************** लाल लाल बाल मेरो गोविन्द गोपाल जैसो - श्रीमती माधुरी सोनी *मधुकुँज* आलीराजपुर
May 27, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • लेख /आलेख

मनहरण घनाक्षरी ****************** लाल लाल बाल मेरो गोविन्द गोपाल जैसो रूप अपलक तित देखूं जौ निहारूँ में काली घटा घुंघराली माथे चूमे जैसे कोई नखराली बदरी की अलकें सिमटी हें l लाल होंठ श्याम तन पीरी सी कछौटी अंग मोरपंख भी ललाट सूंदर सिंगार है । ऐसो लाल पलना में झूले सखी देखो आओ लेकर बलैया जाओ नजर उतार के l प्रेम रस केसो अति वात्सल्य छवि में बसे दीनन की सुध बुध सभी बिसराई में l सूर श्याम अलबेली जगत की माया ऐसी लीला न्यारी विधाता ने माया क्या रचाई है l बाल लीला अति न्यारी जो देखे हो बलिहारी परम् आनन्द सुख जगत रिझायो हे l मधुकुँज शोभा ऐसी छवि को विलोकत ज्यों, मंद मंद मन में ही खूब मुस्काई हे ।। स्वरचित