ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
मंत्री गोविन्द राजपूत की घोषणा का पालन  ग्रह जिले में ही नही हो रहा  खाद्यान वितरण के नाम पर कोरी घोषणाएं करने से बाज आये मंत्री गोविन्द राजपुत ......... सुरेन्द्र चौधरी
May 10, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश


 
मंत्री गोविन्द राजपूत की घोषणा का पालन  ग्रह जिले में ही नही हो रहा

 खाद्यान वितरण के नाम पर कोरी घोषणाएं करने से बाज आये मंत्री गोविन्द राजपुत ......... सुरेन्द्र चौधरी

भोपाल, 

 कोरोना वायरस व लॉक डाउन के चलते गरीब, असहाय, निर्धन परिवारों को खाद्यान्न वितरण के नाम पर कोरी घोषणा करने से बाज आए खाद्य मंत्री  यह आरोप लगाते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेंद्र चौधरी ने मध्यप्रदेश शासन के  खाद्य एवं सहकारिता मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत को आड़े हाथों लेते हुए कहा है कि विगत  2 मई को सागर में खाद्य मंत्री श्री राजपूत की अध्यक्षता में हुई आपदा प्रबंध समूह की बैठक में खाद्य मंत्री द्वारा सार्वजनिक रूप से घोषणा की गई थी कि कोरोना वायरस व लॉक  डाउन के चलते गरीब असहाय निर्धन परिवार जिनके पास राशन कार्ड है और जिनके पास राशन कार्ड नहीं है ऐसे सभी परिवारों को नि: शुल्क खाद्यान्न का वितरण किया जाएगा किंतु  गत शनिवार 9 मई को कैंट बोर्ड सागर की बैठक में सागर कलेक्टर श्रीमती प्रीति मैथिल नायक द्वारा दो टूक कह दिया गया है कि गरीब, निर्धन, असहाय परिवार जिनके राशन कार्ड नहीं है ऐसे परिवारों को खाद्यान्न का वितरण नहीं किया जाएगा और ऐसे परिवारों को खाद्यान्न वितरण करने शासन की ओर से कोई निर्देश नही है। पूर्व मंत्री श्री चौधरी ने मंत्री श्री  राजपूत से सवाल करते हुए कहा है कि वे यह स्पष्ट करें कि आपके निर्देशों का पालन आपके गृह जिले सागर में ही नहीं हो रहा है तो मध्य प्रदेश की स्थिति क्या होगी। श्री चौधरी ने शासन प्रशासन को चेतावनी दी  है की  कैंट क्षेत्र सहित  सागर जिले के साथ साथ सम्पूर्ण मध्यप्रदेश के गरीब, निर्धन, असहाय  परिवार जिनके पास राशन कार्ड नहीं है ऐसे परिवारों को राशन किसी भी स्थिति में देना होगा अन्यथा की स्थिति में कांग्रेस पार्टी सड़कों पर उतरने को मजबूर होगी जिसका संपूर्ण उत्तरदायित्व शासन प्रशासन का होगा।