ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
मोक्ष प्राप्ति के लिए बना था-सांप-सीढ़ी का खेल:*
June 3, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • अध्यात्म

(विजय सोनी-जोबट/अलीराजपुर)

:* सांप-सीढ़ी का आविष्कार 13वीं शताब्दी में संत ज्ञानदेव ने किया था. इस खेल को आविष्कार करने के पीछे का मुख्य उद्देश्य बच्चों को नैतिक मूल्य सिखाना था | सांप-सीढ़ी खेल की उत्पत्ति प्राचीन भारत में हुई थी | डेन्मार्क देश के प्रा. जेकॉब ने इंडियन कल्चरल ट्रेडिशन के अंतर्गत पूरे भारत में भ्रमण कर सांपसीढी के अनेक पट संग्रहित किए | खोजते खोजते प्रा. जेकॉब को मराठी के विख्यात साहित्यकार रामचंद्र चिन्तामण ढेरे के हस्तलिखित संग्रह से उन्हं. दो मोक्षपट मिले | इस पर लिखित पंक्तियों से जीवननिर्वाह कैसे करें, कौन सी कौडी (मोहरा) गिरी तो क्या करना चाहिए, इसका मार्गदर्शन भी किया गया है | *मोक्षपट से संदेश:* मोक्षपट खेल के दोनों ही पट २० x २० इंच आकार के हैं एवं उसमें चौकोर खाने बने हुए हैं | अलग-अलग समय पर इन खानों की संख्या 50 से 100 तक हो गयी | परन्तु समान रूप से उसमें प्रथम खाना 'जनम' का और अंतिम खाना 'मोक्ष' का है | मनुष्य के जीवन की यात्रा इस खेल के द्वारा निर्धारित की जाती है | मोक्षपट खेलने हेतु सांपसीढी के समान ही ६ कौडियों -काम, क्रोध, लोभ, मोह, मद एवं द्वेष के नाम से खेला जाता रहा | पट की हर सीढी को उन्नति की सीढी संबोधित कर उन्हें सत्संग, दया एवं सद्बुद्धि ऐसे नाम से प्रेरणा और अच्छे संस्कार देने का चलन रहा | मनुष्य सांसारिक जीवन को पुरुषार्थ चतुष्टय -धर्म, अर्थ व काम के साथ परम लक्ष्य जिसमें सांसारिक दुःख समाप्त हो जाता है मोक्ष को प्राप्त करने के लिए संकल्पित हो यही इस खेल का उद्देश्य है | इस मोक्षपट खेल के मूल संरचना में एक सौ चोकोर खाने हैं | जिसमें, 12 वां खाना विश्वास था, 51वां खाना विश्वसनीयता थी, 57 वां खाना वीरता, 76 वां खाना ज्ञान था, और 78वें खाना तपस्या थी | ये वे खाने थे जहां सीढ़ी मिली और खेलने वाला तेजी से ऊपर उठता है | इस तरह मानव जीवन को पतन की राह में ले जाने वाले अवगुणों से बचने के लिए अहंकार के लिए 44 वां खाना, चंचलता के लिए 49 वां, चोरी के लिए 2 रा खाना, झूठ बोलने के लिए 58 वां, कर्ज के लिए 69 वां, क्रोध के लिए 84 वां, इसी तरह लालच, गर्व आदि के लिए अलग-अलग खानों बने होते हैं, जिसमें कदम रखते ही खिलाड़ी पतन कर नीचे गिर जाता है | फिर इसी क्रम में संसार की वासना के लिए 99 वां खाना है, जहां सांप अपने मुंह से खुले हुए इंतजार कर रहा था | यहाँ से खिलाड़ी एकदम नीचे आ गिरता है | मनुष्य को अंतिम लक्ष्य 'मोक्ष' को पाने के लिए अपने अवगुणों पर विजय पानी होगी, अवगुणों को लांघ कर ही मनुष्य पतन से बच सकता है | 100 वां खाना निर्वाण या मोक्ष का प्रतिनिधित्व करता है | पहले यह कपड़ों पर ही बना हुआ होता था, लेकिन 18वीं शताब्दी के बाद यह बोर्ड पर बनने लगा | 19वीं शताब्दी के दौरान, भारत में उपनिवेशकाल के समय यह खेल इंग्लैंड में जा पहुंचा था. अंग्रेज अपने साथ यह खेल अपने देश में भी लेकर गए | नये नाम 'स्नेक एंड लैडरर्स' से मशहूर हुआ | अंग्रेजों ने अब इसके पीछे के नैतिक और धार्मिक रूप से जुड़े हुए विचार को हटा दिया था | इंग्लैंड के बाद यह खेल अब संयुक्त राज्य अमेरिका में भी जा पहुंचा. साल 1943 में यह अमेरिका में प्रचलन में आया | वहां इस खेल का नाम अब हो गया था 'शूट एंड लैडरर्स' |