ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
पाकिस्तानी पायलटों को अचानक बैन करने लगे कई देश
July 3, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • देश / विदेश

पाकिस्तानी अंतरराष्ट्रीय एयरलाइंस के पायलटों के लाइसेंस में अनियमितताएं पाई गई हैं, "जो कि सेफ्टी कंट्रोल में गंभीर चूक है."

वियतनाम के विमानन प्राधिकरण ने सोमवार को कहा कि स्थानीय एयरलाइंस के लिए काम कर रहे सभी पाकिस्तानी पायलट को हटा दिया गया है. ये क़दम ऐसे वक्त में उठाया गया है जब वैश्विक नियामकों ने चिंता जताई है कि कुछ पायलट "संदिग्ध" लाइसेंस इस्तेमाल कर रहे हैं. दरअसल, हाल में वैश्विक एयरलाइंस संस्था आईएटीए ने कहा था कि पाकिस्तानी अंतरराष्ट्रीय एयरलाइंस के पायलटों के लाइसेंस में अनियमितताएं पाई गई हैं, "जो कि सेफ्टी कंट्रोल में गंभीर चूक है." इसके बाद पाकिस्तान ने पिछले हफ्ते कहा था कि वो उन 262 एयरलाइन पायलटों को हटा रहा है जिनके विश्वसनीयता फर्जी हो सकती है. सीएएवी के मुताबिक़, वियतनाम ने 27 पाकिस्तानी पायलटों को लाइसेंस दिया था और उनमें से 12 अब भी सक्रिय हैं. हालांकि अन्य 15 पायलटों के कॉन्ट्रैक्ट या तो एक्सपायर हो चुके हैं या वो कोरोना महामारी की वजह से निष्क्रिय हैं. 12 सक्रिय पायलट में से 11 बजट एयरलाइंस वियतजेट एविएशन और एक जेटस्टार पैसिफिक के लिए काम कर रहे थे. जेटस्टार पैसिफिक, वियतनाम एयरलाइन की यूनिट है. सीएएवी ने बताया कि वियतनाम एयरलाइन और बैम्बो एयरवेज़ पाकिस्तान के किसी पायलट की सेवाएं नहीं ले रहे थे.

वियतनाम की एयरलाइन्स में फ़िलहाल 1,260 पायलट हैं. सीएएवी के मुताबिक़, इनमें से आधों के पास विदेशी नागरिकता है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार खाड़ी में पाकिस्तान के पारंपरिक सहयोगी - कुवैत, क़तर, संयुक्त अरब अमीरात के अलावा ओमान ने कथित तौर पर पाकिस्तान मूल के पायलटों को फर्जी लाइसेंस मामले की वजह से हटाने का फैसला किया है. ख़बरे भी आई कि पश्चिम एशिया के सबसे पुराने एयरवेज़ में से एक कुवैत एयरलाइन ने अपने सभी सातों पाकिस्तानी मूल के पायलटों को हटा दिया है. ब्रिटेन स्थित एक पाकिस्तानी मूल के पत्रकार गुल बुखारी ने ट्वीट किया, "फर्जी लाइसेंस मामले को लेकर कुवैत एयरवेज़ ने सभी 7 पाकिस्तानी पायलटों को हटा दिया है, 56 इंजीनियर को निलंबित कर दिया है और हैंडलिंग स्टाफ को भी हटा दिया है. ऐसी ही ख़बरें कतर, ओमान, अमीरात और वियतनाम से भी आ रही हैं." सिविल एविएशन सेक्टर पर नज़र रखने वाले एक विशेषज्ञ ने इकोनॉमिक टाइम्स से कहा कि अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संस्था को इसका संज्ञान लेना चाहिए और बल्कि यात्रियों के व्यापक हित को देखते हुए पाकिस्तानी इंटरनेशनल एयरलाइन्स को सस्पेंड करने के बारे में भी सोचना चाहिए.