ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
पिछले तीन दिनों से किसान उपज बेचने खरीदी केंद्रों हो रहे परेशान। किसानों को बुलाकर उपज न खरीदना किसानो का अपमान ....... सुरेन्द्र चौधरी
May 18, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

भोपाल - प्रदेश की शिवराज सरकार द्वारा एस. एम. एस कर गेहूँ खरीदी केंद्रों पर बुलाये गए किसानों की उपज की खरीदी न कर अन्न दाता किसानों को अपमानित करने का आरोप लगाते हुए मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र चौधरी ने कहा है कि किसानों के हिमायती होने का ढोंग व पाखंड कर किसानों की उपज का दाना- दाना खरीदने का दम भरने बाले शिवराज सिंह की हकीकत यह है कि बीते तीन दिनों से अपनी उपज लेकर शासन के बुलावे पर गेहूं खरीदी केंद्रों पर पड़े किसानों की उपज की खरीदी नहीं की जा रही है जिसका स्पष्ट प्रमाण सागर सहकारी कृषक एवं विपणन संस्था मर्यादित सागर के गेहूं खरीदी केंद्र पर उपज लेकर पहुंचे किसान- शरद सेनए स्वंत्रत कुमारए राहुल जैनएमाधव सिंहए पंचम सिंहए देवेंद्र कुमार रामस्वरूपए सुनील गुप्ता आदि अनेकों किसानों ने बताया कि गत शनिवार तक उनकी उपज की तुलाई की गई किंतु सोमवार को शेष तुलाई पोर्टल द्वारा खरीदी स्वीकार न करने व 120 घण्टे बीत जाने के कारण सॉफ्टवेयर में समस्या आने का बहाना बनाकर खरीदी नहीं की जा रही है जिस कारण बड़ी संख्या में किसान अपनी उपज लेकर खरीदी केंद्रों पर परेशान हो रहे हैं ।

श्री चौधरी ने किसानों की समस्या को देखते हुए तत्काल सागर जिले के फूड कंट्रोलर श्री राजेंद्र वाईकर से किसानों की उपज की तुलाई व खरीदी प्रारंभ कराने की बात कही जिस पर फूड कंट्रोलर द्वारा अवगत कराया गया कि किसानों की उक्त समस्या से प्रदेश स्तर तक अवगत करा दिया गया है किंतु यह समस्या सागर जिले की नही संपूर्ण मध्य प्रदेश में आ रही है जिस पर श्री चौधरी ने प्रदेश स्तर पर वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा की तो बताया गया कि गेहूं खरीदी पर शासन स्तर से ही पोर्टल का बहाना बता कर खरीदी पर रोक लगा दी गई है।श्री चौधरी ने शासन / प्रशासन को चेतावनी दी है शिवराज सिंह जी किसानों की उपज की दाना दाना खरीदने का घोषणा का पालन कराये अन्यथा की स्थिति में काँग्रेस पार्टी किसानों के सम्मान में सड़कों पर उतरेगी जिसका सम्पूर्ण उत्तर दायित्व शासन /प्रशासन का होगा।