ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था,"न खाऊंगा, न खाने दूंगा",-के के मिश्रा
May 24, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • देश / विदेश

*प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था,"न खाऊंगा, न खाने दूंगा", इसके ठीक उलट प्रधानमंत्री को 20 लाख रु.का सूट भेंट करने वाले उनके इस मित्र की कंपनी "ज्योति सीएनसी" ने प्रधानमंत्री के ही गृह प्रान्त गुजरात के अहमदाबाद सिविल अस्पताल में "धमन-1" वेंटिलेटर व उसके फर्जी इस्तेमाल के घोटाले के बाद कथित कुलीनों के चेहरे अमिट दाग से लहूलुहान हो गए हैं। जिस अस्पताल में ये 1000 वेंटिलेटर सप्लाय हुए हैं,ये सिर्फ एक "एम्बू बैग"(आर्टिफिशियलमैन्युअल ब्रीदिंग यूनिट बैग) है।* *कोरोना संक्रमण के भीषणतम दौर में 4 अप्रेल,2020 को गांधीनगर से अहमदाबाद सिविल अस्पताल में धमन-1 के उद्घाटन समारोह में पहुंचे मुख्यमंत्री श्री विजय रूपानी ने इस फर्जी वेंटिलेटर निर्माता कंपनी के मालिक व प्रधानमंत्री जी के मित्र की खूब तारीफों के पूल बांधे!!(इसके पीछे उनकी ईमानदार मंशा क्या रही होगी,सिर्फ वे और भगवान ही जान सकते हैं)?* *अहमदाबाद (गुजरात) के जिस सिविल अस्पताल में ये सप्लाय हुई है,वहां अब तक 343 मौतें हो चुकी हैं!!* *जो लोग इस वैश्विक क़हर के दौर में भी "पैसा हो,चाहे जैसा हो" की तर्ज पर भ्रष्टाचार की अतृप्त प्यास बुझा रहे हैं,देश को उनकी ऐसी करतूतों से इसलिए आश्चर्य नहीं है,क्योंकि इसी कुनबे के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्व.बंगारू लक्ष्मण भी कारगिल युद्ध के दौरान हमारे शहीद सैनिकों के लिए ताबूत खरीदी के रक्षा सौदे में भी "मात्र 1 लाख रु." की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों पकड़ाये जा चुके हैं,उन्हें 7 सालों की सजा भी हुई !! रक्षा सौदे के बाद अब आर्थिक भूख मिटाने का माध्यम वैश्विक कोरोना कहर भी बन गया है!* *कमोबेश आने वाले दिनों में यही कुकृत्य -महापापों से मप्र की जनता भी रूबरू होगी। गुजरात की ही तर्ज पर इस असहनीय क़हर,संक्रमितों और अंतहीन मौतों के सिलसिले के बाद भी जिस तरह लोगों की आर्थिक अतृप्त प्यास शांत नहीं हुई है,वेंटिलेटर,पीपीई कीट,मास्क,दवाइयों,अन्य स्वास्थ्य उपकरणों,निजी अस्पतालों से हुए आर्थिक अनुबंधों,क्वारेंटाइन केंद्रों में संक्रमितों को प्रतिदिन आवंटित बजट राशि,राशन खरीदी-वितरण में हो रहे अक्षम्य घपलों-घोटालों,बड़े भ्रष्टाचारों की चर्चाएं सामने आ रही हैं,इसे अंजाम देने वाले बचेंगे नहीं, उप चुनावों के बाद प्रदेश में एकबार फिर टेलीविजन नहीं "विज़न" वाले मुख्यमंत्री माननीय कमलनाथ जी के नेतृत्व वाली सरकार क़ाबिज़ हो रही है....अब रहम नहीं होगा।*