ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
पुलिस के सम्मान में युवा उतरे मैदान में
July 3, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

बैतूल शहर में सामप्रदायिकता का माहौल बनाकर हिन्दूमुस्लिम पक्षों में तनाव उत्पन्न करने के प्रयास के संबंध में एसडीओपी बैतूल को ज्ञापन सौंपा

बैतूल। बैतूल के युवाओं द्वारा बैतूल शहर में सामप्रदायिकता का माहौल बनाकर हिन्दू-मुस्लिम पक्षों में तनाव उत्पन्न करने के प्रयास के संबंध में एसडीओपी बैतूल को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन सौंपने वाले पवन मालवीय ने बताया कि विगत दिनों वकील दीपक बुंदेले को पुलिस ने लॉक डाउन के दौरान रोककर पूछताझ की थी तो वकील भडक़ गए तथा पुलिसकर्मीयों के साथ अभद्रता कर गाली-गलौच करी और पुलिसकर्मीयों को धमकी दी मैं तुम्हारी वर्दी उतार दूंगा और वकील ने कहा कि मैं हाईकोर्ट का वकील हं और तुम मुझे जानते नहीं हो।

इसके बाद दीपक बुंदेले वकील वहां से चले गए। ठीक इसके दूसरे ही दिन दीपक बुंदेले ने हाईकोर्ट जबलपुर तथा पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को लिखित में शिकायत दी थी की पुलिसकर्मीयों द्वारा उनके साथ उभद्रता की गई और उनको रोका गया। उसके पश्चात को उनके द्वारा दिए गए आवेदन में कहीं भी इस बात का कोई जिक्र नहीं है की पुलिस ने दीपक बुंदेला को मुस्लिम समाज या दाढ़ी देखकर उनके साथ अभद्रता की है। यदि पुलिस के द्वारा दीपक बुंदेले मुस्लमान समझकर या दाढी देखकर कुछ कहा जाता तो उसका जिक्र दीपक अपनी शिकायत में जरूर करते। युवा दीपक मालवीय ने कहा कि इस मामले के लगभग 50 दिन बात किसी पुलिस कर्मचारी की ऑडियो रिकोर्डिंग दीपक बुंदेले ने वायरल की तथा उसमें दीपक बुंदेले ने कहा कि उसके साथ मुस्लिम समझ कर पुलिसकर्मीयों ने अभद्रता की।

अंकित कापसे और पुष्पपाल रावत बैतूल शहर में विगत कई वर्षों से हिन्दू-मुस्लिम समुदाय के बीच में कभी विवाद नहीं हुआ है दोनो पक्ष कौमी एकता की मिशाल कायम करते रहें हैं। पुलिस प्रशासन के द्वारा पिछले कई वर्षों में ऐसा कोई कार्य नहीं किया गया। जिससे दोनो पक्षों में तनाव उत्पन्न हो। विगत 6 माह से कोरोना जैसी गंभीर महामारी पूरी दुनिया को अपने आगोश में ले लिया है। इस गंभीर महामारी से पूरी दुनिया में लाखों लोगों की मृत्यु हो गई है ऐसे माहौल में सिर्फ पुलिस,

प्रशासन,डॉक्टर्स इस माहमारी से जो आमजनता के जीवन की सुरक्षा के लिए लड़ रहें हैंअपना घर-परिवार छोड़ कर 24 घंटे मैदान में इंटे हैं और समाज के जीवन की रक्षा कर रहें हैंलॉक डॉउन के दौरान पुलिस प्रशासन लॉक डॉउन उल्लंघन के कई मामले दर्ज किए थे इसमें बैतूल पुलिस द्वारा किसी भी सम्प्रदाय विशेष या धर्म विशेष को टारगेट नहीं किया गया। पुलिस के द्वारा अपने जीवन को खतरे में डालकर समाज के सभी वर्गों को सुरक्षा प्रदान की। दीपक बुंदेले के द्वारा शहर में साप्रादायिक तनाव का माहौल उत्पन्न किया जा रहा है कि पुलिस ने दीपक बुंदेले को मुस्लमान समझ कर उसके साथ यह घटना की जबकि पुलिस ने किसी भी धर्म विशेष को टारगेट नहीं किया है।

पुलिस निष्पक्ष होकर अपना कार्य किया हैज्ञापन में जिले में साम्प्रदायिक तनाव उत्पन्न ना हो इस मांगा का निवेदन किया गया हैइस अवसर पर पुष्प रावत,कमलेश खडिया, बंटी यादव, पिंटु पंवार, पिंटु तावड़े, अजय खवादे,अखलेश वाघमारे,अर्जुन चौहान, अरविंद मालवीय,श्रयांश चौहान सूरज खडिया,सचिन राठौर, सदन चौहान,दीपक कोसे, विजय पंवार,कमलेश चौधरी, रितिक गलफट,अजय मेहरा,राहुल पंवार,अजय पंवार, विक्की दीवान, शुभम दीवान, दिशांत यादव,आशीष यादव,जय मालवीय, प्रतीक शुभम दीवान, दिशांत यादव,आशीष यादव,जय मालवीय, प्रतीक तिवारी,राहुल चौकीकर, मयंक बघेल,बलराम झिड़ोड़े, रघु यादव, अंकित पंवार, पिंटु पंवार,रोहित लोखंडे, यश ढोलेकर,वंश चौधरी, विशाल बारवे, प्रणव चंदेल, मयंक बघेल,अंकित कापसे,जयदीप यादव,सुनील नागोरे,लक्की यादव, प्रमोद यादव, संजु धुर्वे,आशीष धुर्वे प्रवीण वामनकर, प्रमोद प्रजापति मौजूद थे