ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
सलकनपुर नहीं लगेगा मेला और न ही हो सकेंगे दर्शन
October 10, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

कलेक्टर ने भी किया समर्थन - बैठक में कलेक्टर अजय गुप्ता ने कहा कि जो भी निर्णय लिया गया वह लोकहित में लिया गया है कि नवरात्रि के दौरान मंदिर को बंद रखा जाए और मेले का आयोजन भी नहीं किया जाए

सलकनपुर /प्राप्त जानकारी के अनुसार सलकनपुर में आज एक बैठक हुई जिसमें सांसदए प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में रही। सलकनपुर स्थित मां विजयासन धाम 16 अक्टूबर से 2 नवंबर तक पूरी तरह से बंद रहेगा। इस दौरान मंदिर के पुजारियों द्वारा विधिवत पूजा तो की जाएगी। लेकिन आम लोगों को मातारानी के दर्शन नहीं हो सकेंगे। इसको लेकर शुक्रवार को बैठक का आयोजन किया गयाए इसमें सांसदए कलेक्टरए पुलिस अधीक्षक सहित अन्य जनप्रतिनिधि शामिल हुए। बैठक में निर्णय लिया गया कि नवरात्रि के दौरान मंदिर को पूरी तरह से बंद रखा जाए17 अक्टूबर से नवरात्रि की शुरूआत हो रही हैनवरात्रि को लेकर कयास लगाए जा रहे थे कि इस बार शायद सलकनपुर मंदिर को खोला जाएगाए लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इस संबंध में शुक्रवार को सलकनपुर में एक बैठक का आयोजन किया गयाबैठक में सांसद रमाकांत भार्गव ने कहा कि कोरोना महामारी अभी पूरी तरह से समाप्त नहीं हुई है। भोपालए इंदौर सहित प्रदेशभर में इसके पाजिटिव मरीज लगातार सामने आ रहे हैं इसलिए इसका खतरा अब भी बरकरार है। कोरोना महामारी को रोकने के लिए इसके बनाए गए नियमों का पालन कराना अब भी जरूरी हैइसलिए इस बार भी नवरात्रि में मेला भी नहीं लगाया जाएगा एवं मंदिर भी नवरात्रि में बंद रखा जाएगाउन्होंने कहा कि नवरात्रि के दौरान सलकनपुर में देशभर से बड़ी संख्या में दर्शनार्थी दर्शन के लिए आते हैंए ऐसे में खतरा ज्यादा हैकि कोरोना महामारी के कारण इस बार भी नवरात्रि के दौरान मेले का आयोजन नहीं किया जाए और मंदिर भी बंद रखा जाएए ताकि कोरोना के मरीजों पर अंकुश लग सके। इस बात का ही समर्थन किया कि नवरात्रि में मंदिर को बंद रखा जाए।

कलेक्टर ने भी किया समर्थन

बैठक में कलेक्टर अजय गुप्ता ने कहा कि जो भी निर्णय लिया गया वह लोकहित में लिया गया है कि नवरात्रि के दौरान मंदिर को बंद रखा जाए और मेले का आयोजन भी नहीं किया जाए