ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
शिवराज जी ने ख़ुद यह सच्चाई बया की कि भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के आदेश से , सिंधिया के साथ मिलकर भाजपा ने कांग्रेस की चलती सरकार गिरायी बड़ा खुलासा , कांग्रेस के आरोपो की पुष्टि की : नरेन्द्र सलूजा
June 9, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

 इंदौर - 

मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने आज जारी अपने एक बयान में कहा कि कांग्रेस शुरू से ही यह आरोप लगा रही है कि मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार को भाजपा ने साज़िश व षड्यंत्र रच गिराया है क्योंकि कांग्रेस सरकार प्रदेश में निरंतर जनहितेषी कार्य कर रही थी।चाहे किसानों की कर्ज माफी की बात हो ,युवाओं को रोजगार देने की हो , महिलाओं को सम्मान व सुरक्षा देने की बात हो ,मिलावट के खिलाफ अभियान की बात हो , माफिया के खिलाफ अभियान की बात हो या प्रदेश में निवेश की बात हो ,लगातार मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार जन हितेषी कार्य कर रही थी। इन सब बातों से भाजपा को यह भय सता रहा था कि यदि कमलनाथ सरकार इसी प्रकार निरंतर जन हितेषी कार्य करती रही तो कई वर्षों तक भाजपा का प्रदेश में सत्ता में वापस लौटना नामुमकिन है इसलिए एक स्थिर सरकार को ,जनादेश प्राप्त सरकार को , पूर्ण बहुमत की सरकार को जानबूझकर षड्यंत्र रच गिराया गया। भाजपा शुरू से ही कांग्रेस के इन आरोपों को नकारती रही।जबकि पूरे प्रदेश ने देखा कि जो विधायक बेंगलुरु में बंधक बनाए गए थे ,उनके साथ भाजपा के नेता व विधायक मौजूद थे ,उनकी तस्वीरें भी कई बार सामने आई लेकिन कल तो प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने खुद इंदौर के रेसीडेंसी कोठी में सांवेर के कार्यकर्ताओं की एक बैठक में सार्वजनिक रूप से यह स्वीकार कर कांग्रेस के उन आरोपों पर मोहर लगा दी है। सलूजा ने बताया कि शिवराज सिंह ने सांवेर क्षेत्र के कार्यकर्ताओं की बैठक में अपने संबोधन में कहा कि “ हमारे केंद्रीय नेतृत्व के आदेश पर हमने ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ मिलकर सरकार गिराई क्योंकि हमारा शीर्ष नेतृत्व चाहता था कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिरे और सिंधिया के बगैर कांग्रेस की सरकार नहीं गिर सकती थी “। इससे इस बात की भी पुष्टि हो गई है भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व भी इस साजिश व षड्यंत्र में शामिल था और जानबूझकर कांग्रेस सरकार को गिराया गया और सरकार गिराने में सिंधिया की इसलिए मदद ली गई क्योंकि उनके बगैर सरकार गिर नहीं सकती थी।इसी से समझा जा सकता है कांग्रेस में कोई असंतोष नहीं था ,सरकार के पास पूर्ण बहुमत था सिर्फ भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश पर व चाहने पर जानबूझकर षड्यंत्र व साजिश रच कर कांग्रेस की राज्य की लोकप्रिय सरकार को गिराया गया। शिवराज की इस स्वीकारोक्ति के बाद अब यह सच्चाई अब सभी के सामने आ चुकी है।