ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
श्री गणेशाय नमः आज का नाम है मुकुंदा ) अर्थात मोक्ष प्रधानी या निस्तार प्रदान करने वाली .
June 29, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • अध्यात्म

माई के श्लोक में कहा है (तुम्मेका गतिर देवी निस्तार नौका नमस्ते जगत तारिणी त्राहि दुर्गे )

एक अन्य अर्थ है रक्षक या निवारणी, माई तो दुखों का निवारण करती हैं वह सद्गति प्रदान करती है स्वामी जी का एक ही आदेश था कि जो मंत्र मिला है उसे ही जपते रहो मार्ग मिल जाएगा यह अमृत शब्द हमारे पूज्य पिताजी को महाराज ने अपने मुख से ही कहे थे और वह एक ही मंत्र निरंतर करते रहे श्री स्वामी स्मृति ग्रंथ में यह ब्रह्म वाक्य लिखा है जय माई