ALL देश / विदेश सम्पादकीय लेख /आलेख अध्यात्म मध्यप्रदेश राजधानी - भोपाल खेल / विज्ञानं एवं टेक्नोलॉजी मनोरंजन / व्यापार रोजगार के पल शाषकीया विज्ञापन रोजगार के पल क्लासिफाइड विज्ञापन
विधायक शशांक भार्गव पर हमला करने वाले अपराधियांे की तत्काल गिरफ्तारी हो: कमलनाथ
June 26, 2020 • Mr. Dinesh Sahu • मध्यप्रदेश

भोपाल,-  पूर्व रक्षा राज्य मंत्री सुरेश पचौरी के नेतृत्व में प्रदेश कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल विदिशा में कांग्रेस पार्टी के विधायक शशांक भार्गव के ऊपर हुए जानलेवा हमले के विरोध में पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी से मिला। प्रतिनिधि मंडल में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रजापति, पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, जीतू पटवारी, पी.सी. शर्मा, विधायक आरिफ मसूद, देवेन्द्र पटेल कांग्रेस महामंत्री राजीव सिंह प्रवक्ता भूपेन्द्र गुप्ता, गुड्डू चैहान मौजूद थे। पचौरी ने पुलिस महानिदेशक को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का पत्र सांैपते हुए तत्काल दोषियों पर कार्यवाही की मांग की। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने पत्र में कहा है कि पेट्रोल एवं डीजल की बढ़ती कीमतों के विरूद्ध कांग्रेस के शांतिपूर्ण विरोध को हताश करने के लिए भाजपा अपराधिक हमले कर रही है। विदिशा नगर पलिका के पूर्व अध्यक्ष मुकेश टंडन एवं उसके सौ-डेढ़ सौ समर्थकों का हमला इसी अराजक चेष्टा का हिस्सा है। कमलनाथ ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा निर्वाचित विधायक के साथ सरेआम इस तरह की घटना को अंजाम देना प्रदेश में कानून-व्यवस्था पर स्वमेव प्रश्न चिन्ह लगाता है। विगत कुछ समय से इस तरह की घटनाएं बढ़ना प्रदेश में अपराधिक एवं असामाजिक तत्वों के हौसले बुलंद होना प्रदर्शित करती है। इस तरह की निरंतर घटनाओं से प्रदेश में अराजकता का वातावरण बन रहा है एवं जनता में भय व्याप्त हो रहा है। मध्य प्रदेश को शांति का टापू कहा जाता है, यह प्रशासन की निष्क्रियता के कारण कहीं अशांति के टापू में तब्दील न हो जाए। यह स्थिति प्रदेश के लिये घातक है। भाजपा की सरकार आने के बाद प्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हतोत्साहित करने के लिये इस तरह के हमलों में लगातार वृद्धि हो रही है एवं राजनैतिक द्वेषता से कांग्रेस कार्यकर्ताओं के विरूद्ध कार्यवाहियां की जा रही हैं। विदिशा की उपरोक्त घटना इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है, जिसमें अब तक कोई समुचित कार्यवाही नहीं की गयी है। हैरत का विषय यह है कि नामजद होने के बावजूद अब तक एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं की गयी है। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने भी जन प्रतिनिधियों को सुरक्षा प्रदान करने की मांग की। पुलिस महानिदेशक जौहरी ने कहा कि एफआईआर दर्ज कर ली गई है और शीघ्र ही उनके ऊपर कानून सम्मत कार्यवाही की जायेगी। पूर्व मंत्री सज्जन वर्मा ने गृहमंत्री के इस बयान पर संज्ञान लेने का आग्रह किया है कि ‘‘क्रिया की प्रतिक्रिया होती है।’’ उन्होंने कहा कि गृहमंत्री स्वंय हिंसा के लिये भीड़ को उकसा रहे हैं।